emblem

Accessible India- Empowered India

Menu

हमारे बारे में

सुगम्य भारत अभियान विकलांगजन सशक्तिरकण विभाग, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने विकलांग व्यक्तियों हेतु सार्वभौमिक सुगम्यता प्राप्त करने के लिए एक राष्ट्रव्यापी फ्लैगशिप अभियान सुगम्य भारत अभियान की शुरूआत की है।

सुगम्य भारत अभियान को लागू करते समय यह प्रस्ताव किया गया है कि हम इंच्योन कार्यनीति द्वारा स्थापित दिशा निर्देशों के साथ हैं। इंच्योन कार्यनीति के उद्देश्य 3(क), 3(ख) तथा 3(ग) नीचे दिए गए हैं-

3(क) राष्ट्रीय राजधानी में जो लोगों के लिए उन्मुक्त है, में भौतिक वातावरण में सुगम्यता को बढ़ाना।

3(ख) सार्वजनिक परिवहन की सुगम्यता तथा उपयोग में बढ़ोत्तरी

3(ग) सूचना तथा संचार सेवाओं की सुगम्यता और उपयोग में बढ़ोत्तरी

इंचियोन कार्यनीति के दिशा निर्देशों में इन लक्ष्यों पर प्रगति का पता लगाने के लिए संकेतकों को भी परिभाषित किया गया है।

3.1 राष्ट्रीय राजधानी में सुगम्य सरकारी भवनों का अनुपात

3.2 सुगम्य अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का अनुपात

3.4 सुगम्य और प्रयोग योग्य सार्वजनिक दस्तावेज तथा वैबसाईट जो अंतर्राष्ट्रीय सुगम्यता मानकों को पूरा करती हो

3.6 अंतर्राष्ट्रीय मानकीकरण संगठन जैसे अंतर्राष्ट्रीय मानको को ध्यान में रखते हुए बाधामुक्त पहुंच हेतु अनिवार्य तकनीकी मानकों की उपलब्धता जो सार्वजनिक व्यक्तियों द्वारा इस्तेमाल किए जा सकने वाले भवनों हेतु सभी डिजाईनों की मंजूरी को शासित करते हों।

3.8 संकेत भाषा द्विभाषियों की संख्या

उपरोक्त को देखते हुए, सुगम्य भारत अभियान के लिए निम्नलिखित उददेश्यों तथा लक्ष्यों का प्रस्ताव किया जाता है-

भाग कः निर्मित वातावरण सुगम्यता

सुगम्य भौतिक वातावरण केवल विकलांग व्यक्तियों के लिए ही नहीं बल्कि सभी के लिए फायदेमंद होता है। स्कूलों, चिकित्सा सुविधाओं तथा कार्यस्थलों सहित, आंतरिक तथा बाहरी सुविधाओं में रूकावटों तथा बाधाओं को दूर करने के लिए उपाय किए जाने चाहिए। इनमें न केवल भवन शामिल हैं, बल्कि फुटपाथ, कर्व कट्स और वे अवरोध जो पैदल यातायात को रोकते हैं, भी शामिल हैं।

उददेश्य-1: सरकारी भवनों में सुगम्यता अनुपात में वृद्धि

एक सुगम्य सरकारी भवन वह होता है जहां एक विकलांग व्यक्ति बिना किसी बाधा के इसमें प्रवेश कर सके और इसमें उपलब्ध सुविधाओं का इस्तेमाल कर सके। इसमें निम्नलिखित निर्मित वातावरण शामिल है- सेवाएं, सीढि़यां तथा रैंप्स, प्रवेश द्वार, आकस्मिक निकास, पार्किंग के साथ साथ लाईटिंग, साईनेजिस, अलार्म सिस्टम तथा प्रसाधन जैसी आतंरिक तथा बाह्य सुविधाएं।

सुगम्य भवनों की पहचान करने के लिए वार्षिक परीक्षण की आवश्यकता होती है जिससे यह निर्धारित किया जाता है कि भवन निर्धारित मानको को पूरा करता है। एक बार जब कोई भवन पूर्णतः सुगम्य मान लिया जाता है तो वार्षिक परीक्षण की आवश्यकता नहीं होती किन्तु उसमें निहित ढांचे अथवा प्रणाली में किसी प्रस्तावित बदलाव के लिए इसकी आवश्यकता हो सकती है। कम अंतराल पर एक पूर्ण परीक्षण किया जा सकता है।

सुगम्यता के मानक, आईएसओ की तरह, स्थानीय परिप्रेक्ष्य को देखते हुए, अंतर्राष्ट्रीय मानको के अनुरूप होने चाहिए। निर्मित वातावरण के संबंध में, आईएसओ 21542:2011, भवन निर्माण-सुगम्यता और निर्मित वातावरण का प्रयोग, आवश्यकताओं की एक रूपरेखा प्रस्तुत करना और निर्माण, बनाने, घटकों तथा फिटिंगस के बारे में सिफारिशें।

क्ष्यः-1.1 - 50 शहरों में कम से कम 25-50 अत्यंत महत्वपूर्ण सरकारी भवनों का सुगम्यता परीक्षण करना और उन्हें पूर्ण सुगम्य भवनों में बदलना

लक्ष्यः-1.2 - राष्ट्रीय राजधानी तथा सभी राज्य राजधानियों में जुलाई, 2019 तक 50 प्रतिशत अत्यंत महत्वपूर्ण सरकारी भवनों को पूर्ण सुगम्य भवनों में बदलना-

लक्ष्यः-1.3 - 10 अत्यंत महत्वपूर्ण शहरों/सभी राज्यों के नगरों में (उनके अलावा जिन्हें पहले ही लक्ष्य 1.1 और 1.2 में कवर किया गया है) जुलाई 2022 तक 50 प्रतिशत अत्यंत महत्वपूर्ण सरकारी भवनों का सुगम्यता परीक्षण करना और उन्हें पूर्ण सुगम्य भवनों में बदलना-

भाग खः परिवहन प्रणाली सुगम्यता

स्वतंत्र जीवन यापन के लिए परिवहन एक महत्वपूर्ण घटक है और समाज में अन्य व्यक्तियों के समान ही, विकलांग व्यक्तियों को भी एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए परिवहन सुविधाओं पर निर्भर रहना होता है। परिवहन में हवाई यात्रा] बस] टैक्सी तथा रेल आदि शामिल हैं।

उददेश्य 2: हवाई अडडो के सुगम्यता अनुपात में वृद्धि

किसी एयरपोर्ट को तभी सुगम्य माना जाता है जब कोई भी विकलांग व्यक्ति इसमें बिना किसी बाधा के प्रवेश कर सके और इसकी सभी सुविधाओं और बोर्डिंग तथा जहाज से उतरने जैसी सभी सुविधाओं का प्रयोग कर सके। इसमें निम्नलिखित निर्मित वातावरण शामिल है- सेवाएं] सीढि़यां तथा रैंप्स] प्रवेश द्वार] आकस्मिक निकास] पार्किंग के साथ साथ लाईटिंग] साईनेजिस] अलार्म सिस्टम तथा प्रसाधन जैसी आतंरिक तथा बाह्य सुविधाएं।

लक्ष्यः- 2.1. सभी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अडडो का सुगम्यता परीक्षण करना और उन्हें पूर्ण सुगम्य अंतर्राष्ट्रीय हवाई अडडों में परिवर्तित करना

लक्ष्यः- 2.2 सभी घरेलु हवाई अडडों का सुगम्यता परीक्षण करना और उन्हें पूर्ण सुगम्य राष्ट्रीय हवाई अडडों में परिवर्तित करना

उददेश्य 3:रेलवे स्टेशनों के सुगम्यता अनुपात में वृद्धि

लक्ष्यः- 3.1 देश में ए-1, ए तथा बी श्रेणी के रेलवे स्टेशनों को दिसंबर 2018 तक पूर्णतः सुगम्य रेलवे स्टेशनों में परिवर्तित करना

लक्ष्यः- 3.2 50 प्रतिशत रेलवे स्टेशनों को पूर्ण सुगम्य रेलवे स्टेशनों में परिवर्तित

उददेश्य 4. सार्वजनिक परिवहन के सुगम्यता अनुपात में वृद्धि

लक्ष्यः- 4.1 25 प्रतिशत सरकारी स्वामित्व वाले सरकारी परिवहन वाहनों को मार्च 201 9 तक पूर्ण सुगम्य वाहनों के रूप में परिवर्तित करना

भाग गः सूचना और संचार ईको प्रणाली सुगम्यता

समाज में जानकारी तक पहुंच प्रत्येक के लिए एक अवसर प्रदान करती है। जानकारी तक पहुंच से तात्पर्य सभी प्रकार की जानकारी से है। लोग अपने दैनिक जीवन यापन के बारे में निर्णय लेने के लिए कई प्रकार से जानकारी का प्रयोग करते हैं। इनमें मूल्य सूची पढ़ना] हॉल में शारीरिक प्रवेश करना] किसी कार्यक्रम में भाग लेना] स्वास्थ्य संबंधी जानकारी वाले पैम्फ्लेट को पढ़ना] रेल समय सारणी को समझना अथवा वैब पेज देखना शामिल है। आधारभूत संरचना में सामाजिक बाधाओं तथा दैनिक जीवन में जानकारी प्राप्त करने और उनका उपयोग करने में सुगम्यता का अभाव और अधिक नहीं रहना चाहिए।

उददेश्य 5: सुगम्य और प्रयोग योग्य सार्वजनिक दस्तावेज और वैबसाईट जो अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त सुगम्यता मानकों को पूरा करती हैं की सुगम्यता अनुपात में वृद्धि।

यह लक्ष्य किसी विशेष वर्ष में प्रकाशित सार्वजनिक दस्तावेज के कनवर्जन और सभी वर्तमान वैबसाईट द्वारा अंतर्राष्ट्रीय मानक संगठन के संगत मानदण्डों को पूरा करने को सुनिश्चित करेगा जो आईएसओ/आईईसी 40500:2012, सूचना प्रौद्योगिकी-डब्ल्यू 3सी वैब सामग्री सुगम्यता दिशा निर्देश (डब्ल्यू सीएजी) 2.0 में पाए जाते हैं। सार्वजनिक दस्तावेज से तात्पर्य उप राष्ट्रीय दस्तावेज सहित ऐसे दस्तावेज से है जो राष्ट्रीय सरकारों द्वारा जारी किए गए हों। इनमें विधि विनियमन रिपोर्ट्स फॉम्सम तथा अंतर्राष्ट्रीय ब्रोशर्स जैसे सभी प्रकाशन शामिल हैं।

लक्ष्यः- 5.1 50 प्रतिशत सभी सरकारी (केन्द्र तथा राज्य सरकार दोनों) वैबसाईट का सुगम्यता परीक्षण करना और उन्हें पूर्ण सुगम्य वैबसाईट में परिवर्तित करना

लक्ष्यः- 5.2 केन्द्र सरकार तथा राज्य सरकारांे द्वारा जारी किए गए कम से कम 50 प्रतिशत सभी सार्वजनिक दस्तावेजों को सुगम्यता मानकों को पूरा करवाना सुनिश्चित करना।

उददेश्य 6ः संकेत भाषा द्विभाषियांे के पूल को बढ़ाना

संकेत भाषा द्विभाषिया वह होता है, जो सरकारी संकेत भाषा मंे पेशेवर मानकों को पूरा करता है।

लक्ष्यः- 6.1 200 अतिरिक्त संकेत भाषा द्विभाषियों का प्रशिक्षण तथा विकास

उददेश्य 7ः सार्वजनिक टेलिविजन समाचार कार्यक्रमों की दैनिक कैप्शनिंग और संकेत भाषा व्याख्या के अनुपात को बढ़ाना।

सार्वजनिक टेलिविजन समाचार कार्यक्रम का अनुपात जो दैनिक कैप्शनिंग और संकेत भाषा व्याख्या के सहमत मानकों को पूरा करता हो। सार्वजनिक टेलिविजन से तात्पर्य है वे कार्यक्रम जिनका निर्माण निधियन अथवा सब्सिडी सरकार द्वारा प्रदान की जाती है।

उददेश्य 7.1ः राष्ट्रीय मीडिया प्राधिकारियों के परामर्श से कैप्श्निंग और संकेत भाषा व्याख्या पर राष्ट्रीय मानकों का विकास तथा अपनाना।

उददेश्य 7.2: सरकारी चैनलों द्वारा दिखाए जा रहे सभी सार्वजनिक टेलिविजन कार्यक्रमांे के 25 प्रतिशत को इन मानकों को पूरा करना सुनिश्चित कराना।

सुगम्यता प्रत्येक व्यक्ति को समान पहुंच प्रदान करने के बारे में है। समुदाय में उपलब्ध सुविधाओं तथा सेवाओं तक पहुंच में सक्षम हुए बिना विकलांग व्यक्तियों को पूर्णतः शामिल नहीं किया जा सकता। सुगम्य भारत अभियान सभी केन्द्रीय मंत्रालयों/विभागों तथा राज्य सरकारों से ’’सुगम्य पुलिस स्टेशन’’, ’’सुगम्य अस्पताल’’, ’’सुगम्य पर्यटन’’ तथा ’’सुगम्य डिजिटल इंडिया’’ आदि के क्षेत्र में सहयोग की अपेक्षा रखता है।

Scroll To Top